(पंजाब दैनिक न्यूज़) आज का दिन भारतीय इतिहास के साथ ही विश्व के इतिहास में भी काफी महत्वपूर्ण स्थान रखता है. देश में अंग्रेजों के खिलाफ आजादी की लड़ाई की पहली हुंकार भरने वाले सिपाही मंगल पांडे ने 8 अप्रैल 1857 को अपने प्राणों की आहुती दी थी. ईस्ट इंडिया कंपनी की 34वीं बंगाल इंफेन्ट्री के जवान मंगल पांडे को आज ही के दिन फांसी की सजा दी गई थी.मंगल पांडे के अलावा भारतीय इतिहास में स्वाधिनता की लड़ाई में अपना योगदान करने वाले भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने 8 अप्रैल 1929 को दिल्ली में सेंट्रल असेंबली में बम फेंके थे. हालांकि इस बमबाजी का मुख्य उद्देश्य किसी को चोट पहुंचाना नहीं था. वहीं आज ही के दिन साल 1894 में राष्ट्रीय गीत बंदे मातरम् के रचयिता बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय का निधन हुआ था.किसी को चोट पहुंचाना नहीं था. वहीं आज ही के दिन साल 1894 में राष्ट्रीय गीत बंदे मातरम् के रचयिता बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय का निधन हुआ था.

विश्व स्तर की बात करें तो आज ही के दिन ब्रिटेन की पूर्व प्रधानमंत्री मार्गेरेट थैचर का निधन हुआ था. वह 20वीं शताब्दी में ब्रिटेन की तीन बार प्रधानमंत्री रही. उनका निधन लंदन में 8 अप्रैल 2013 को हुआ था. इसके अलावा स्पेन के मशहूर चित्रकार पाब्लो पिकासो का निधन भी आज ही के दिन साल 1973 में हुआ था.वहीं 1950 में आज ही के दिन भारत औऱ पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के अधिकारों को सुरक्षित रखने के लिए लियाकत-नेहरू समझौता हुआ था. इसे भविष्य में दोनों देशों के बीच युद्ध को रोकने के उद्देश्य से भी किया गया था. इसके अलावा 8 अप्रैल 1914 में अमेरिका और कोलंबिया के बीच पनामा नहर क लेकर एक संधि पर हस्ताक्षर हुआ था.

.

LEAVE A REPLY