(पंजाब दैनिक न्यूज़)  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपने मंत्रिमंडलीय सहयोगियों और उच्च स्तर के कारोबारी प्रतिनिधिमंडल के साथ दो दिन की श्रीलंका यात्रा पर जा रहे हैं। मीडिया को जारी बयान के अनुसार इमरान का राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे और प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे से द्विपक्षीय मुलाकात का कार्यक्रम है और इस दौरान व्यापार, निवेश, स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, तकनीक, रक्षा और पर्यटन से जुड़े मुद्दों पर चर्चा होगी। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने बताया कि खान प्रधानमंत्री राजपक्षे के आमंत्रण पर आधिकारिक यात्रा पर श्रीलंका जा रहे हैं।

इमरान भले ही पाकिस्तान जा रहे हों लेकिन श्रीलंका भारत के महत्व से अच्छी तरह से वाकिफ है। इसलिए श्रीलंका ने अपनी आदतों से मजबूर पाकिस्तान के बयानवीर पीएम इमरान खान के श्रीलंकाई संसद में होने वाले भाषण को रद्द कर दिया है। एक स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, चीनी कर्ज के नीचे दबी लंका की सरकार मददगार भारत से किसी भी सूरत में जरा सी नाराजगी भी मोल लेना नहीं चाहती है, इसलिए उसने ये कदम उठाया है।

भारत ने हाल ही में कोरोना के खिलाफ जंग में श्रीलंका को 5 लाख वैक्सीन दी हैं। पिछले कुछ महीनों में, श्रीलंका में मुस्लिम विरोधी भावनाएं पैदा हुई हैं क्योंकि बौद्ध लोग मस्जिदों में जानवरों की बलि जैसे मुद्दों पर विरोध प्रदर्शन करते रहे हैं। ऐसी उम्मदी की जा रही है कि इमरान श्रीलंका में भी मुस्लिम कार्ड खेल सकते हैं, जैसा उन्होंने पिछले साल अफगानिस्तान की यात्रा के दौरान किया था। वो संयुक्त राष्ट्र के मंच का इस्तेमाल भी मुस्लिमों के हीरो बनने के लिए कर चुके हैं। पाकिस्तान में बुरी तरह फेल हो चुके इमरान श्रीलंका में ऐसा कुछ न करें, जिससे वहां की सरकार की परेशानी बढ़े, ऐसे में इमरान का भाषण रद्द कर दिया गया।

LEAVE A REPLY