यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अन्नदाता को परजीवी कहा – हरसिमर

चंडीगढ़/दिल्लीr – ( पंजाब दैनिक न्यूज़ ) पूर्व केंद्रीय मंत्री तथा शिरोमणी अकाली दल की वरिष्ठ नेता हरसिमरत कौर बादल ने कहा है कि चैंकाने वाली बात है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों को परजीवी कहा है। उन्होने कहा कि  वह इसका संसद के अंदर तथा बाहर दोनों जगहों पर विरोध करती हैं तथा प्रधानमंत्री से अनुरोध करती हैं कि वह किसान आंदोलन के खिलाफ सरकारी बर्बरता तुरंत बंद करवाएं।

यहां जारी किए एक बयान में हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि यह एक सच्चाई है कि उस समय के गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में मुख्यमंत्रियों की वर्किंग कमेटी ने पहले ही किसान हितों की रक्षा की सिफारिशें की थी तथा कहा था कि एम.एस.पी तथा से कम किसानों तथा व्यापारियों से कोई सौदेबाजी नही होनी चाहिए। उन्होने पूछा कि उस समय से अब तक क्या बदला है?

उनको कहा कि केंद्र सरकार यह बताए कि 26 जनवरी की घटनाओं के बारे खुफिया एजेंसियों की असफलता की जांच क्यों नही की जा रही है उन्होने कहा कि जिन्होने राष्ट्र के झंडे के लिए सबसे ज्यादा कुर्बानियां दी हैं , उन्हे ही निशाना बनाया जा रहा है। उन्होने कहा कि जिस केसरी निशान साहिब का प्रधानमंत्री आप सम्मान करते थे उसकी बदनामी की जा रही है।
उन्होने कहा कि हैरानी वाली बात है कि केंद्र सरकार में कितना अंहकार आ गया है। यह किसानों को बिचैलिए, नक्सली तथा खालिस्तानी करार देकर उन्हे बदनाम कर रही है तथा किसानों की भलाई के लिए किसी भी मंत्री को भेजने के लिए तैयार नही है। उन्होने कहा कि केंद्र सरकार नौजवानों तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं तथा पत्रकारों के खिलाफ दमन की नीति अपना रही है।
उन्होने कहा कि गुरु नानक देव जी ने किरत करो, नाम जपो, वंड छको का संदेश दिया था तथा गुरु नानक देव जी ने स्वयं 18 साल खेतीबाड़ी की ।
यह जिक्रयोग्य है बादल ने न सिर्फ केंद्रीय मंत्रिमंडल में खेतीबाड़ी आर्डिनेंस तथा बिलों का विरोध किया बल्कि विभिन्न मंत्रियों से मुलाकात करके उन्हे किसानों की चिंताए दूर करने के लिए भी कहा तथा खेतीबाड़ी बिलों का भी विरोध किया।

LEAVE A REPLY