(पंजाब दैनिक न्यूज़)  गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों की ट्रैक्टर परे के दौरान हुई हिंसा के मामले में दिल्ली पुलिस ने गैंगस्टर से एक्टिविस्ट बने लक्खा सदाना और पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू के खिलाफ केस दर्ज कर लिया हैI दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक पुलिस उपद्रव में दोनों की भूमिका को लेकर जांच कर रही हैI

सदाना-दीप सिद्धू पर हिंसा भड़काने का आरोप
26 जनवरी को दिल्ली के आईटीओ और लाल क़िला में हुई हिंसा में दीप सिद्धू और लक्खा सदाना का सबसे अहम रोल हैI किसान आंदोलन के दौरान दोनों काफी एक्टिव थे, हालांकि बाद में किसानों के कुछ धड़ों ने दीप सिद्दू को प्रदर्शन से हटाया भी थाI सूत्रों के मुताबिक दोनों किसान प्रदर्शन से कुछ दिन के लिए गायब हुए थेI

लक्खा सदाना पर पंजाब में 26 मामले पहले से दर्ज
रिपोर्ट के अनुसार, लक्खा सदाना ने सिंघु बॉर्डर की रेड लाइट पर बैठे किसानों के बीच भड़काऊ भाषण भी दिया था और हिंसा के लिए उकसाया थाI लक्खा सदाना के खिलाफ पंजाब में पहले से ही 26 मामले दर्ज हैंI

सिख फॉर जस्टिस के खिलाफ देशद्रोह का मामला
दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने सिख फॉर जस्टिस संगठन के खिलाफ और देशद्रोह की धाराओं में एफआईआर दर्ज की हैI बता दें कि भारत सरकार सिख फॉर जस्टिस को बैन कर चुकी हैI किसान आंदोलन के दौरान सिख फॉर जस्टिस ने लाल किले पर झंडा फहराने का ऐलान किया था और झंडा फहराने वाले को इनाम देने की घोषणा की थीI

दिल्ली पुलिस ने दर्शन पाल सिंह को भेजा नोटिस
हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव की तरफ से किसान नेता दर्शन पाल सिंह को नोटिस भेजा गया है और जवाब देने के लिए 3 दिन का समय दिया हैI नोटिस में दर्शन पाल सिंह से पूछा गया है, ‘ट्रैक्टर परेड को लेकर दिल्ली पुलिस के साथ जो करार हुआ था, आपने उसके नियमों का उल्लंघन किया हैI आपके खिलाफ कानूनी कार्रवाई क्यों ना की जाए?’

.

पुलिस ने 19 आरोपियों को किया गिरफ्तार
दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के मामले में अब तक 25 से ज्यादा केस दर्ज किए हैं और 19 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि 50 लोग हिरासत में हैंI हिंसा में 300 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, जिनमें से कुछ ICU में भी हैंI पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव ने स्पष्ट कहा है कि हिंसा में जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगीI कोई किसान नेता भी दोषी पाया जाता है तो कार्रवाई होगीI

लाल क़िले की प्राचीर पर फहराया धार्मिक झंडा
बता दें कि गणतंत्र दिवस के दिन आंदोलनकारी किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान बड़ी संख्या में उग्र प्रदर्शनकारी बैरियर तोड़ते हुए लाल क़िले तक पहुंच गए और उसकी प्राचीर पर उस स्तंभ पर एक धार्मिक झंडा लगा दिया, जहां 15 अगस्त को प्रधानमंत्री भारत का तिरंगा फहराते हैंI लाल क़िले में घुसे प्रदर्शनकारियों ने जमकर उत्पात मचाया और टिकट काउंटर के अलावा कई स्थानों पर तोड़फोड़ कीI पुलिस ने रात करीब साढ़े 10 बजे तक प्रदर्शनकारियों से लाल क़िला को खाली कराया और धार्मिक झंडे को भी हटा दियाI हजारों प्रदर्शनकारी कई स्थानों पर पुलिस से भिड़े, जिससे दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में अराजकता की स्थिति उत्पन्न हो गई थीI

LEAVE A REPLY