(पंजाब दैनिक न्यूज़)  भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख  में जारी तनाव को लेकर 9वें दौर की कॉर्प्स कमांडर बैठक में एक बार फिर स्पष्ट किया कि चीनी सेना को सभी टकराव वाली जगहों से पूरी तरह पीछे हटना होगाI रविवार को हुई इस बैठक का उद्देश्य दोनों देशों के बीच संघर्ष पर विराम लगाते हुए समाधान निकालना थाI इससे पहले भी, कई राउंड की बातचीत हो चुकी है, लेकिन चीन के रुख की वजह से कोई सार्थक परिणाम नहीं मिल सकाी जानकारी के मुताबिक, कॉर्प्स कमांडर स्तर की बैठक पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चीन की ओर स्थित मोलडो में सुबह 10 बजे शुरू हुई और रात ढाई बजे तक चलती रहीI इस दौरान, भारत ने कहा कि टकराव वाले क्षेत्रों में डिसइंगेजमेंट और डी-एस्केलेशन की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना चीन के ऊपर हैI बता दें कि इससे पहले, छह नवंबर को हुई आठवें दौर की बातचीत में दोनों पक्षों ने टकराव वाले स्थानों से सैनिकों को पीछे हटाने पर व्यापक चर्चा की थीI भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेह स्थित 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन कर रहे हैंI भारत लगातार कहता आया है कि पर्वतीय क्षेत्र में टकराव वाले सभी स्थानों से सैनिकों को वापस बुलाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने और तनाव को कम करने की जिम्मेदारी चीन की हैI कोर कमांडर स्तर की सातवें दौर की बातचीत में चीन ने पेगोंग झील के दक्षिणी तट के आसपास सामरिक महत्व के ठिकानों से भारतीय सैनिकों को हटाने पर जोर दिया था, लेकिन भारत ने साफ किया था कि टकराव वाले सभी स्थानों से सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया एक ही समय पर शुरू होनी चाहिIचीन के साथ विवाद को देखते हुए पूर्वी लद्दाख में भारतीय सेना के करीब 50,000 जवान तैनात हैंI अधिकारियों के अनुसार चीन ने भी इतनी ही संख्या में अपने सैनिकों को तैनात किया हैI भारत लगातार शांतिपूर्ण ढंग से विवाद सुलझाने की बात कहता आया है, लेकिन चीन की तरफ से हर बार कुछ न कुछ ऐसा कर दिया जाता है कि समाधान की गाड़ी पटरी से उतर जाती हैI चीन जानबूझकर इस मुद्दे को सुलझाने के मूड में नजर नहीं आ रहाI

LEAVE A REPLY