(पंजाब दैनिक न्यूज़)  तीन कृषि कानूनों को वापस लेने और फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को कानूनी दर्जा देने की मांग को लेकर किसानों का आंदोलन दिल्ली में मंगलवार को 41वें दिन भी जारी है। पिछले तीन दिनों से खराब मौसम के बावजूद किसान संगठनों के नेता और कार्यकर्ता राजधानी की सीमाओं पर धरना-प्रदर्शन जारी रखे हुए हैं। किसान संगठनों ने अपनी मांगों के पूरा होने तक संघर्ष जारी रखने का ऐलान किया है। इस आंदोलन को अलग-अलग संगठनों का भी समर्थन मिल रहा है।इस बीच, प्रदर्शनकारी किसान संगठनों ने मंगलवार को सिंघु बॉर्डर पर एक प्रेस कॉन्फेंस कर 6 जनवरी को प्रस्तावित अपने ट्रैक्टर मार्च को खराब मौसम के पूर्वानुमान के चलते 7 जनवरी तक के लिए टाल दिया है। हालांकि उन्होंने कहा कि वे आने वाले दिनों में अपने आंदोलन को तेज करेंगे।स्वराज इंडिया योगेंद्र यादव ने कहा कि 7 जनवरी को सुबह 11 बजे एक्सप्रेसवे पर किसान चारों तरफ से ट्रैक्टर मार्च करेंगे। कुंडली बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर, गाजीपुर बॉर्डर से पलवल की तरफ, रेवासन से पलवल की तरफ ट्रैक्टर मार्च होगा। उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को देश जो ऐतिहासिक गणतंत्र परेड देखने वाला है उसका एक ट्रेलर 7 जनवरी को दिखाई देगा। कल से दो हफ्ते के लिए पूरे देश में देश जागरण का अभियान चलेगा। योगेंद्र यादव ने कहा कि देश के कोने-कोने में प्रदर्शन शुरू हो चुके हैं, इनको और बड़ा किया जाएगा ताकि इस झूठ का पर्दाफाश किया जा सके कि ये आंदोलन सिर्फ पंजाब, हरियाणा का है।वहीं, क्रांतिकारी किसान संघ अध्यक्ष दर्शन पाल ने कहा कि 18 जनवरी को महिला किसान दिवस आयोजित किया जाएगा, 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के अवसर पर, आजाद हिंद किसान दिवस मनाया जाएगा और 25 जनवरी, 26 जनवरी को देशभर में जगह-जगह कार्यक्रम होंगे।

LEAVE A REPLY