(पंजाब दैनिक न्यूज़) जालंधर, 31 दिसंबर
यह यकीनी बनाते हुए कि कोविड महामारी में कोई भी बच्चा ई -लर्निंग से वंचित न रह जाये, इसके लिए डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने गुरूवार को ज़िला प्रशासकीय कांपलैक्स में 10 विद्यार्थियों को फ़ोन बांटकर पंजाब स्मार्ट क्नेकट योजना के तीसरे पड़ाव की शुरूआत की।
जिले में एक ही समय पर 9 स्थानों पर करवाए गए समारोहों दौरान सरकारी स्कूलों के 12वीं के विद्यार्थियों को कुल 3468 स्मार्ट फ़ोन बाँटे गए।डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने कहा कि स्मार्टफोन विद्यार्थियों के लिए आने वाली बोर्ड की फ़ाईनल परीक्षा में बढिया ढंग से तैयारी के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे। इस अवसर पर उनके साथ अतिरिक्त डिप्टी कमिशनर जसबीर सिंह भी मौजूद थे। उन्होनें कहा कि सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों की पढ़ाई में महामारी के कारण कोई रुकावट न आए, इसके लिए यह महत्वपूर्ण डिजिटल पहल मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार की तरफ से की गई है। महामारी कारण नियमित क्लास मार्च से रुकी हुई है।उन्होनें कहा कि स्मार्टफ़ोन ने विद्यार्थियों /अध्यापकों को आनलाइन क्लासों के द्वारा सीखने की चुनौती का सामना करने के लिए तैयार किया है।थोरी ने ज़ोर देते हुए कहा कि विद्यार्थी इससे अपने पाठ्यक्रम की जानकारी आसानी के साथ हासिल कर सकेंगे। इसके साथ ही वह स्मार्टफ़ोन की मदद से आसानी से नागरिक सेवाओं का भी आनलाइन लाभ प्राप्त कर सकेंगे।उन्होंने यह भी कहा कि युवा पंजाब सरकार के घर -घर रोज़गार प्रोग्राम के अंतर्गत रोज़गार के अवसरों, रोज़गार मेलों और भरती अभियान के बारे भी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।डिप्टी कमिशनर ने बताया कि इस योजना अधीन जालंधर में 11894 स्मार्ट फ़ोन बाँटे गए हैं, जिनमें पहले पड़ाव में 2116, दूसरे और तीसरे पड़ाव में क्रमवार 6310 और 3468 शामिल हैं।इस अवसर पर डीईओ सकैंडरी हरिन्दरपाल सिंह, डिप्टी डीईओ सकैंडरी राजीव जोशी, कांग्रेसी नेता बलदेव सिंह देव, अंगद दत्ता और अन्य मौजूद थे।

LEAVE A REPLY