(पंजाब दैनिक न्यूज़)  भारत समेत दुनियाभर में कोरोना गाइडलाइंस के साथ क्रिसमस मनाया जा रहा हैI हालांकि महामारी के प्रकोप के बीच श्रद्धालुओं का उत्साह बना हुआ है और चर्च के बाहर बड़ी संख्या में लोग एकत्र हुए और क्रिसमस का पर्व हर्ष और उल्लास के साथ मना रहे हैंI दिल्ली, पश्चिम बंगाल, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और गोवा समेत देश के हर राज्य में क्रिसमस धूमधाम के साथ मनाया जा रहा हैI क्रिसमस पर गोवा की राजधानी पणजी में आवर लेडी ऑफ द इमैक्यूलेट कॉन्सेप्ट चर्च में मिडनाइट मास का आयोजन किया गयाI कोलकाता के पार्क स्ट्रीट पर बड़ी संख्या में लोग एकत्र हुएI यही नहीं दिल्ली समेत हर शहर के चर्च को सजाया गया हैI कोलकाता का प्रतिष्ठित सेंट पॉल कैथेड्रल को हर साल की तरह आधी रात के बाद जनता के लिए बंद कर दिया गयाI यह स्थल आमतौर पर क्रिसमस की पूर्व संध्या पर बड़ी संख्या में लोग जुटते हैंI यहां पर बैनर के जरिए कोरोना की वजह लगे प्रतिबंधों के बारे में जानकारी दी जा रही है तो अतिरिक्त पुलिस की भी तैनाती की गई हैI
चर्च में एकत्र कुछ लोगों का कहना है कि वे इस बात से खुश नहीं हैं कि इस बार लोगों के आने पर पाबंदी लगा दी गई हैI पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी क्रिसमस के अवसर पर कोलकाता के एक चर्च का दौरा किया तो झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन आर्क बिशप के घर जाकर क्रिसमस की बधाई दीI हालांकि कोरोना को देखते हुए इस बार क्रिसमस पर चर्च पर बड़े स्तर पर प्रार्थना सभा के आयोजन पर रोक लगा दी गई हैI
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन क्रिसमस के अवसर पर आर्क बिशप फादर फेलिक्स टोप्पो के यहां गए और क्रिसमस की बधाई दीI साथ में केक भी काटाI राष्ट्रीय राजधानी में क्रिसमस के अवसर पर इस बार दिल्ली का सबसे बड़ा चर्च पहली बार बंद रहेगाI गुरुवार और शुक्रवार को चर्च बंद रहेंगेI हालांकि, चर्च की सजावट की गई है, लेकिन इसके अंदर प्रवेश की इजाजत नहीं हैI वायरस संक्रमण के चलते श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक हैI सिर्फ चर्च के सदस्य प्रार्थना कर सकेंगे, जिसके लिए विशेष व्यवस्था की गई हैI चर्च के पदाधिकारियों का दावा है कि क्रिसमस पर हर साल दो लाख से अधिक श्रद्धालु आते थे, लेकिन इस बार बंद रखने का फैसला लिया गयाI सेक्रेड हार्ट कैथेड्रल गिरजाघर के पादरी लारेंस के मुताबिक, कोरोना संक्रमण के चलते पहली बार चर्च को बंद करने का फैसला लिया गया. साथ ही इस बार किसी भी वीवीआइपी को निमंत्रण नहीं भेजा गया हैI प्रवेश द्वार पर भीड़ को नियंत्रण करने के लिए दिल्ली पुलिस से मदद मांगी गई है I

LEAVE A REPLY