जालंधर (पंजाब दैनिक न्यूज़) देर रात जालन्धर के पठानकोट रोड पर स्थित श्रीमन अस्पताल में कोरोना का इलाज करवा रहे 2 मरीजों की मौत के बाद दोनो की शवों को बदलने के आरोप लगे हैं। दोनो ही परिवार वालों ने अस्पताल प्रबंधकों के खिलाफ जमकर हंगामा किया।

प्राप्त जानकारी अनुसार अस्पताल में ये दोनो मरीज कोरोना पॉजिटिव थे,जिसका इलाज हॉस्पिटल में किया जा रहा था, जिसके बाद दोनो की मौत हो गई। दोनो शवों को अस्पताल में रखा गया था।मृतकों की पहचान तरसेम सिंह निवासी माडल हाउस जालन्धर और  जसपाल सिंह वासी फगवाड़ा के रुप में हुई है। यह दोनो मरीज कुछ दिन पहले श्रीमन अस्पताल में दाखिल हुए थे जिनका कोविड-19 टैस्ट किया गया था और दोनो ही पॉजिटिव आए थे।फगवाड़ा निवासी प्रभलीन सिंह ने बताया कि उनका मरीज जसपाल सिंह था मगर डैड बॉडी तरसेम सिंह से बदल कर सौंप दी गई। कोरोना वायरस की एहतियात के चलते बॉडी को पैक करके सौंपा गया था और कोई पहचान नहीं करवाई गई थी। जिसके बाद जालन्धर निवासी तरसेम सिंह का फगवाड़ा में अंतिम संस्कार कर दिया गया।मगर जब  सोहन सिंह अपने मृतक की डैड बॉडी लेने पहुंचे तो उन्हे जसपाल सिंह की डैड बाडी दे दी गई । जिसके बाद अस्पताल में खूब हंगामा हो गया। फिलहाल अस्पताल में दोनो परिवार वाले अपने साथियों सहित पहुंच चुके हैं तथा मौके पर डीसीपी बलकार सिंह, एसीपी नार्थ सुखजिंदर सिंह तथा थाना 8 के प्रभारी भारी पुलिस फोर्स सहित पहुंच चुके हैं।इस मामले में श्रीमन अस्पताल की ओर से लापरवाही सामने आई है। इस बारे जब श्रीमन हॉस्पिटल प्रबन्धको से सम्पर्क किया तो उन्होंने सवाल का जवाब सॉरी बोल कर फ़ोन बंद कर दिया I परिवार के मेंबरों ने इंसाफ की मांग की है I

LEAVE A REPLY