(पंजाब दैनिक न्यूज़) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 12वें ब्रिक्स सम्मेलन को संबोधित कर रहे है। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि विश्व एक संकट से गुजर रहा है। ब्रिक्स में सुधार की जरुरत है। IMP, WTO में भी सुधार की जरुरत है। प्रधानमंत्री मोदी ने बिना नाम लिए पाकिस्तान पर निशान साधते हुए कहा कि आतंकवाद के मददगार देशों को दोषी ठहराया जाए। उन्होनें कहा कि ब्रिक्स देश ग्लोबल इकोनॉमी के बड़े इंजन है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमने ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान के तहत एक व्यापक reform process शुरू किया है। यह campaign इस विश्वास पर आधारित है कि एक self-reliant और resilient भारत post-COVID वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए force multiplier हो सकता है और global value chains में एक मजबूत योगदान दे सकता है। इसका उदहारण हमने COVID के दौरान भी देखा, जब भारतीय फार्मा उद्योग की क्षमता के कारण हम 150 से अधिक देशों को आवश्यक दवाइयां भेज पाए। हमारी वैक्सीन उत्पादन और डिलीवरी क्षमता भी इस तरह मानवता के हित में काम आएगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस वर्ष दूसरे विश्व युद्ध की 75वीं वर्षगांठ पर हम वीरगति पाए सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हैं। भारत से भी 2.5 मिलियन से अधिक वीर इस युद्ध में यूरोप, अफ्रीका, और साउथ ईस्ट एशिया जैसे कई फ्रंट्स पर सक्रिय थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि 2021 में BRICS के 15 वर्ष पूरे हो जाएंगे। पिछले सालों में हमारे बीच लिए गए विभिन्न निर्णयों का मूल्यांकन करने के लिए हमारे शेरपा एक रिपोर्ट बना सकते हैं। 2021 में अपनी अध्यक्षता के दौरान हम BRICS के तीनों स्तंभों में intra-BRICS सहयोग को मजबूत करने का प्रयत्न करेंगे।

LEAVE A REPLY