• (पंजाब दैनिक न्यूज़) करवा चौथ (Karwa Chauth 2020) का व्रत चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद पूरा होता है लेकिन इस दिन सबसे ज्यादा इंतजार भी चंद्रमा ही करवाता है. आज यानी करवा चौथ के दिन एक बार फिर सुहागिन महिलाओं को बेसब्री से चांद का इंतजार रहेगा. हर किसी को जानना है कि चांद आखिर निकलेगा कब, ऐसे में हम आपको बता रहे हैं कि देशभर में चांद किस वक्त (Moonrise Time) दिखाई देगा.करवा चौथ पर चंद्रोदय (Moonrise Time Today) का समय है रात 8 बजकर 15 मिनट. लेकिन अलग-अलग स्थानों और चंद्र उदय का समय भी अलग अलग होता हैIदिल्ली में 8:11 बजे
    जयपुर में 8:22 बजे
    देहरादून में 8:03 बजे
    शिमला में 8:06 बजे
    चंडीगढ़ में 8:11 बजे
    लखनऊ में 8:00 बजे
    पटना में 7:45 बजे
    कोलकाता में 7:40 बजे
    भोपाल में 8:23 बजे
    गांधीनगर में 8:42 बजे
    मुंबई में 8:51 बजे
    बेंगलुरु में 8:12 बजे
    चेन्नई में 8:32 बजे
    हैदराबाद- 8:33 बजे
    करवा चौथ में पूजा के समय करवा चौथ की प्रसिद्ध कथा सुनी जाती है। उसके बाद चंद्रमा को जल अर्पित करने के बाद पति के हाथों पारण कर व्रत को पूरा किया जाता है। करवा चौथ की व्रत कथा सुने बिना व्रत को पूरा नहीं माना जाता है। आइए जानते हैं कि करवा चौथ की कथा क्या है।

    करवा चौथ की प्रसिद्ध कथा

    पौराणिक कथा के अनुसार, एक पतिव्रता स्त्री थी, जिसका नाम करवा था। वह अपने पति से बहुत प्रेम करती थी। पतिव्रता होने के कारण उसके अंदर एक दिव्यशक्ति विद्यमान हो गई थी। एक दिन उसका ​पति नदी में स्नान करने गया था, तभी एक मगरमच्छ ने उसे पकड़ लिया। करवा को जब इसकी सूचना मिली तो उसने यमराज का आह्वान किया। उसने यम देव से पति को वापस करने तथा मगर को यमलोक भेजने का आग्रह किया।

    साथ ही उसने यम देव को चेतावनी भी दी। यदि उसके पति को कुछ हो गया तो वह अपनी पतिव्रता शक्ति से यमलोक तथा यमराज दोनों का ही विनाश कर देगी। उस पतिव्रता स्त्री की चेतावनी तथा पतिव्रता शक्ति से यमराज इतना भयभीत हो गए कि उन्होंने उसके पति को वापस घर भेज दिया था मगरमच्छ को यमलोक में भेज दिया।

    यह मान्यता है कि उस दिन के बाद से ही कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का व्रत मनाया जाने लगा। कार्तिक चतुर्थी व्रत बाद में करवा चौथ व्रत के नाम से प्रसिद्ध हो गया।

    करवा चौथ की दूसरी कथा…….

    करवा चौथ के दिन प्रसिद्ध सावित्री की भी कथा सुनी जाती है। कहा जाता है कि एक बार सावित्री नाम की स्त्री के प​ति सत्यवान की मृत्यु हो गई। तब यमराज उसके प्राण लेने आए तो सावित्री ने उनसे निवेदन किया कि वे सत्यवान के प्राण न ले जाएं। यमराज नहीं माने, तब सावित्री ने भोजन और जल का त्याग कर पति के शरीर के पास विलाप करने लगी। वह एक पतिव्रता स्त्री थी। उसके हठ योग से यमराज विचलित हो गए और सावित्री को सत्यवान के अलावा कुछ भी मांगने का वचन दिया।तब सावित्री ने यमराज से अनके संतान की माता होने का आशीर्वाद मांगा और यमराज ने दे दिया। इसके बाद यमराज को अपनी गलती का एहसास हुआ। सा​वित्री पतिव्रता थी, इसलिए वह सत्यवान के बिना संतान की माता कैसे बन पाती? तब यमराज अपने दिए गए वचन की मर्यादा रखने के लिए सत्यवान के प्राण लौटा दिए। इस घटना के बाद से ही महिलाएं कार्तिक कृष्ण चतुर्थी को निर्जला व्रत रखने लगीं, जिसे करवा चौथ का व्रत कहा जाता है।

LEAVE A REPLY