• (पंजाब दैनिक न्यूज़) हिन्दू पंचांग के मुताबिक, इस साल का पितृ पक्ष 01 सितम्बर से शुरू होकर 17 सितम्बर 2020 तक चलेगा. इसका मतलब है कि इस साल पितृ पक्ष की कुल अवधि 17 दिनों की होगीIपितृ पक्ष एक महत्वपूर्ण पक्ष हैI धार्मिक और पौराणिक मान्यताओं के अनुसार ‘पितर’ देव स्वरूप होते हैंI पितृ पक्ष में श्राद्ध कर्म को पूर्ण किया जाता है I माता-पिता या किसी अन्य परिजन की मृत्यु के बाद उनकी तृप्ति के लिए श्रद्धापूर्वक किए जाने वाले कर्म को पितृ श्राद्ध कहते हैंIमान्यता है कि इस समय पूर्वज पृथ्वी पर होते हैं, इसलिए पितृपक्ष में उनका श्राद्ध करने से वे अपना आशीर्वाद प्रदान करते हैं Iपितरों के आशीर्वाद से सुख का द्वारा खुलता है. पितरों को प्रसन्न करते वक्त यह ध्यान में रखें की कोई गलती न हो जाए इससे पितर नाराज हो जाते हैंI पितर पक्ष में यह गलतियां करने से बचें… पितृ पक्ष में नया सामान नहीं खरीदना चाहिएIमाना जाता है कि पितृ पक्ष के दौरान अपने पूर्वजों को याद किया जाता है इसलिए ये समय उनकी यादों में शोक दिखाने के लिए होता हैI
    पितृ पक्ष में 15 दिन तक अपने बाल नहीं कटवाने चाहिएI
    पितृ पक्ष में भिखारी को भीख देने से कभी इनकार न करेंI मान्यता के अनुसार यह हो सकता है कि भिखारी के रूप में आपके पूर्वज आपके पास आए हों और भिक्षा देने से इनकार करना उनका अपमान करना होता है I
    पितृ पक्ष में पूजा के लिए लोहे के बर्तनों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिएIपितृ पक्ष के दौरान पीतल, फूल या तांबे के बर्तनों में ही पितरों को जल दिया जाता हैI
    जो पितरों को तर्पण करते हैं उन्हें पितृ पक्ष के 15 दिनों तक किसी और के घर में भोजन नहीं करना चाहिएI

LEAVE A REPLY