जालंधर (लवदीप बैंस ) भारतीय जनता पार्टी पंजाब के प्रदेश सचिव अनिल सच्चर ने लोगों के काम धंधे बंद कर अपनी कमाई के साधनों को खोलने पर कांग्रेस सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि सरकार ने लोगों के काम धंधे तो बिल्कुल बंद करवा दिए हैं और अपनी कमाई के सारे साधन खोल दिए हैं। यदि कोई आम व्यक्ति घर से दवा लेने भी निकलता है तो उसे पैदल जाना पड़ता है और सरकारी पास के अलावा डॉक्टर की पर्ची भी लानी पड़ती है, लेकिन शराब खरीदने के लिए यदि कोई् व्यक्ति जाना चाहे तो उसे किसी तरह के पास की या पर्ची की जरूरत नहीं होती। उन्होंने कहा कि क्या वसीका नवीस, अष्टाम फरोश, शराब ठेकेदारों के करिंदों, सुविधा सेंटर और बिजली बोर्ड के कर्मचारियों को भी सरकार ने पास बना कर दिए हैं यदि नहीं तो पंजाब सरकार के इस दोहरे मानदंडों से तो यही लगता है कि सरकार चाहती है उसकी कमाई तो बड़े लेकिन आम इंसान की तकलीफों से उसे कोई भी मतलब नहीं है।
अनिल सच्चर ने कहा कि पहले तो सरकार ने पिछले साल के बिजली के बिल के हिसाब से एवरेज बिल भेज कर आम जनता से अन्याय किया और अब उन्हें वसूल करने के लिए बिजली दफ्तर खोल कर उन पर मानसिक दबाव बनाया जा रहा है। लॉकडाउन के कारण पिछले लगभग 50 दिनों से सारे काम धंधे बंद पड़े हैं। जब लोगों को किसी तरह की कमाई का साधन ही नहीं है तो वह बिजली के बिल कहां से भरेंगे।उन्होंने कहा कि शराब ठेकेदारों के दबाव में आकर पंजाब सरकार करोना जैसी महामारी के समय में ठेके खोलने का समय बढ़ा कर क्या लोगों की जान से खिलवाड़ नहीं कर रही। उन्होंने कहा कि सभी व्यापारिक और बाजारी संगठनों ने सरकार का इस महामारी के समय में भरपूर सहयोग दिया लेकिन सरकार ने इनकी किसी भी प्रकार से कोई भी मदद नहीं की। जिस कारण व्यापारी वर्ग में बहुत ज्यादा निराशा का माहौल बना हुआ है।

LEAVE A REPLY