(मुनीश तोखी) डेमोक्रेटिक भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजिंदर गिल और पंजाब अध्यक्ष गुरमुख सिंह खोसला ने पंजाब सरकार को कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब में सत्ता में आने से पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गुटखा साहिब को अपने हाथ में लेकर कहा था कि सत्ता में आने पर वह 4 हफ्तों में पंजाब को नशा मुक्त बनाएंगे, परंतु वह ऐसा नहीं कर पाए I कोरोना महामारी के दौरान देश लॉक डाउन होने के बाद से पंजाब में शराब के ठेके खोल दिए गए हैं। इसने हमें राज्य की अर्थव्यवस्था को विफल करने वाली शराब की खुली छूट दी, लगता है कि पंजाब के मुख्यमंत्री साहब भी भूल गए कि शराब एक नशा है I अब पंजाब सरकार को भी शराब खरीदने वालों का सम्मान करना चाहिए क्योंकि वे भी पंजाब की अर्थव्यवस्था में योगदान दे रहे हैं I पंजाब सरकार शराब की होम डिलीवरी की भी व्यवस्था कर रही है, लेकिन पंजाब सरकार ने जरूरतमंद लोगों को राशन और अन्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए पर्याप्त व्यवस्था नहीं की है और न ही केंद्र सरकार द्वारा भेजी गई गरीब कल्याण जन योजना के तहत राशन प्रदान करने किया गया है । राजिंदर गिल और गुरमुख खोसला ने कहाकि पंजाब भर में शराब के ठेके बंद किए जाएं जिससे कि लोग नशे की गिरफ्त में ना फंस सकें I उन्होंने कहा कि जरूरतमंद लोगों को जल्द से जल्द राशन और और वित्ती सहायता प्रदान की जाए जिससे कि लोग अपना गुजारा कर सकें I

LEAVE A REPLY