जालंधर (मुनीश तोखी ) जालंधर उपायुक्त वरिंदर कुमार शर्मा ने आज जिले में मंडियों से गेहूं की खरीद और उठान की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए खरीद एजेंसियों के प्रमुखों को निर्देश दिए।उपायुक्त ने अपने कार्यालय से आज यहां अनाज के उठान और खरीद की देखरेख के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि इस कर्तव्य को निभाने में किसी भी प्रकार की ढिलाई पूरी तरह से अनुचित और अवांछनीय थी। उन्होंने कहा कि किसानों की उपज को खरीदने और उन्हें जल्द से जल्द उठाने की जरूरत है। श्री शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार कोविद 19 महामारी के मद्देनजर इन विशेष परिस्थितियों में गेहूं की सुचारू और परेशानी मुक्त खरीद के लिए दृढ़ता से प्रतिबद्ध थी और सरकार के निर्णय को लागू करने के लिए अधिकारी हर संभव प्रयास करने के लिए बाध्य थे।उपायुक्त ने खरीद एजेंसियों के प्रमुखों से जमीनी स्तर पर पूरे परिचालन का जायजा लेने के लिए रोजाना मंडियों का दौरा करने को कहा। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को अपने अधिकार क्षेत्र के तहत अनाज मंडियों में नियमित रूप से दौरा करना चाहिए और उन्हें नियमित निगरानी के लिए दैनिक रिपोर्ट प्रस्तुत करनी चाहिए। श्री शर्मा ने उन्हें खरीद कार्यों का सूक्ष्मता से निरीक्षण करने के लिए कहा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि अनाज के भंडार बाजार में ढेर न हों और इसका शीघ्र उत्थान जल्द से जल्द सुनिश्चित हो। उपायुक्त ने अधिकारियों / अधिकारियों से व्यक्तिगत रूप से धान की फसल के आगमन, खरीद और भुगतान की रिपोर्ट प्रस्तुत करके खरीद कार्यों के बारे में उसे अद्यतन रखने के लिए कहा। श्री शर्मा ने कहा कि जिला प्रशासन ने यह सुनिश्चित करने के लिए विस्तृत व्यवस्था की है कि किसानों की फसल को अनाज मंडियों से निर्बाध, समय पर और परेशानी मुक्त तरीके से निकाला जाए, जिसके लिए जिले में 156 खरीद केंद्र बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि किसान को अपनी उपज बेचते समय किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करने दिया जाएगा।उपायुक्त को वेबिनार में अधिकारियों द्वारा अवगत कराया गया कि जिले में अनाज की खरीद शुरू करने के बाद से विभिन्न एजेंसियों द्वारा लगभग 2.03 लाख मीट्रिक टन की खरीद की गई है।

LEAVE A REPLY