जालंधर (मुनीश तोखी ) कोरोना वायरस कोविड 19 से देश के लोगों को बचाया जा सके I पूरी दुनिया को अपनीगिरफ्त में ले चुके I इस वायरस की गंभीरतालोग तो समझने लगे हैं, मगर लोगों का प्रतिनिधित्व करने वाले नेताइसकी गंभीरता को नहीं समझते प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, डाक्टरों व माहिरों सबका कहना है कि घर में बंद रह कर और सोशल डिस्टैंस बनाकर ही कोरोना वायरस से बचा जा सकता है।परंतु शायद कुश नेताओं को सोशलडिस्टैंस के मायने नहीं पता है। सैंट्रल हलके के वार्ड नंबर 11 की पार्षद प्रवीणा मनु और पार्षद पति मनोज मनु की तरफ से भीड़ इकट्ठी कर कर राशन वितरित किया गया। धारा 144 लगी होने के बाद कर्फ्यू में भीड़ इकठी करना कानूनन अपराध है। आम पब्लिक अगर कर्फ्यू में बाहर निकलती है क़ानून तोड़ती है तो उसे पुलिस द्वारा डंडे मारकर भगाया जाता है। परंतु इन नेताओं को कौन समझाए गा अगर इनमें से एक भी मरीज करुणा वायरस से ग्रसित हुआ तो बस अभी को अपनी चपेट में ले लेगा। इसका जिम्मेदार कौन होगा ? वार्ड नंबर 11 के पार्षद के ऑफिस के बाहर कल की तरह आज सुबह भी भीड़ इकट्ठी होने लग पड़ी परंतु थाना कैंट प्रभारी रामपाल की तरफ से पुलिस पार्टी भेजकर उन्हें घर भेज दिया गया लोगों ने कहा कि इस महामारी के समय में लोग अपनी नेता गिरी चमकाना छोड़ दें तभी कोरोना वायरस कि इस महामारी से बचा जा सकता है।

LEAVE A REPLY