IMG-20191225-WA0037

(मुनीश तोखी )जालंधर के दो कॉलेज पहले से ही बंद हो चुके हैं और अब एशिया का पहला स्पोर्ट्स कॉलेज जो जालंधर में है उसकी भी तरस योग हालत बनी हुई है जिसने देश को बहुत बड़े खिलाड़ी नसों में इंटरनेशनल ओलंपिक दिए हैं वह भी अब बंद होने की कगार पर है जिसको दुबारा बुलंदियों पर लाने के लिए संस्थाएं सरकार से गुहार लगा रही हैं जालंधर के आदमपुर का आईटी कॉलेज सरकारी अभाव के कारण बंद हो गया था जिसको दोबारा शुरू करने के लिए इलाका विधायक पवन टीनू ने बहुत जोर लगाया पर नाकामयाब रहे और कुछ समय पहले जंडियाला क्षेत्र में श्री गुरु गोविंद सिंह कॉलेज जहां पर सिर्फ 2 अध्यापक और प्रिंसिपल है पर विद्यार्थी कोई भी नहीं जिसे भी संस्थाओं ने दोबारा शुरू करने का बीड़ा उठाया है और अब जालंधर का स्पोर्ट्स कॉलेज जो लंबे समय से सरकारी अभाव के कारण मंद हाली के दौर से गुजर रहा है उसे दोबारा से स्पोर्ट्स सेंटर बनाने के लिए संस्थाएं जोर लगा रहे हैं गुरप्रीत सिंह खालसा यूथ अकाली नेता मुख्य प्रवक्ता ने कहा की जालंधर का यह स्पोर्ट्स कॉलेज एशिया का पहला स्पोर्ट्स कॉलेज है जिसने देश को नेशनल इंटरनेशनल और बड़े-बड़े ओलंपिक खिलाड़ी दिए हैं और इसकी छवि और बेहतर होनी चाहिए थी जबकि यह सरकारी अभावों के कारण इसका स्तर दिन प्रतिदिन गिरता जा रहा है और मैदान जंगल में तब्दील हो गए हैं और इमारतें खंडहर में उन्होंने कहा कि आज हम यहां पर सरकार को जगाने के लिए आए हैं कि जिन्होंने घर घर नौकरी और नशा मुक्त पंजाब का सपना दिखाया था अगर वह खेलों कि और युवाओं को कृषित नहीं करेंगे तो वह अपनी कथनी में बिल्कुल फेल है उन्होंने कहा कि अगर सरकार इस कॉलेज को दोबारा स्पोर्ट्स हब में तब्दील नहीं करती तो वह तीखा संघर्ष करेंगे राज्य में बेरोजगारी का मुद्दा विकराल रूप धारण कर रहा है अगर पंजाब सरकार युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा करती और शिक्षण संस्थाओं में सुधार करती तो युवाओं को विदेशों की ओर मुख नहीं करना पड़ता है और वह यहीं पर अपनी काबिलियत के बल पर राज्य का नाम रोशन करते अब देखना यह है कि सरकार इस पर कितना अमल करती है

LEAVE A REPLY